भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

सै सूं मोटो चोर / सतीश गोल्याण

Kavita Kosh से
आशिष पुरोहित (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 08:33, 14 जून 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सतीश गोल्याण |अनुवादक= |संग्रह=था...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अेक सै‘र रै बाग में
च्यार चोर बैठ्या
आपसरी में बतळावै
कांई-कांई कारनामा,
बां अजै ताईं कर्या
छाती ठोक-ठोक‘र सुणावै
च्यारूं रा च्यारूं आपनै सगळा सूं
मोटो चोर सिद्ध करणो चावै
आज बां च्यारा में बै‘स छिड़गी
कुण सै सूं मोटो चोर आ बात खड़गी
पै‘लो आपरा सारा खाता खोल्या
बण आपरै अपराधां नै
भारी-भारी बाटां सूं तोल्या
दूजो, तीजो अर चौथो भी कम नीं हा
बूकियां चढ़ाता, जोरां सूं बोल्या
कई लाखां री चोरी रा, बां सगळा
आप-आप रा खात खोल्या
बां‘री बै‘स चालै ही, पण बिचाळै ई
लोगां नै देख‘र
बां‘री आंख्यां जागी
बीं जिग्या अेक नेता री रैली आगी
चुणावां रो टेम हो
रैली बठै ई खत्म हो‘र सभा रो रूप लियो
नेता अेक भोत जोर सूं भाषण दियो
च्यारूं रा च्यारूं चोर रैली में रळग्या
बै चुप हो‘र अेकर लोगां में
माणस ज्यूं ढळग्या
नेता जी विरोधी रा
अरबां रा घोटाला गिणाया
कियां लूटै देष नै बो चोर
लोगां न खूब समझाया
थोड़ी सी‘क ताळ पाछै बीं जिग्या ई,
विरोधी री सभा रमगी
चोर बैठ्या सुणै हा,
पण बां‘री जीभ जमगी
अण नेता भी आपरै विरोधी रा
घोटाला, कारनामा गिणाया
अर बोल्यो बोट म्हानै ई दीज्यो
बण थानै भोत बांदरा बणाया
सभावां खत्म होगी, चोर बैठ्या रा बैठ्या ई रैग्या
चेता-चूक होग्या, सोच्यो
अै नेता आ कांई-कांई कैग्या
भीड़ छंटगी,
चोर अेक-दूजै सूं कतरावै
कै‘रा-कै‘रा देखै पण
निजर कोनी मिलावै
बां‘रा बैम मिटग्या
आं नेता‘र सामीं
बै च्यारूं रा च्यारूं पिटग्या