Last modified on 22 सितम्बर 2016, at 02:27

सोलह आने यकीन / नीता पोरवाल

Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 02:27, 22 सितम्बर 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=नीता पोरवाल |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCat...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

खिड़कियों की झिर्रियो से झाँकते
धूल से अटे
लटकते-झूलते
मकड़ी के जाले से
विकृत, घिनौने, बेमानी रिश्ते

हटाने की कोशिश में
हाथ आता है तो बस
मकड़ियो का रेंगता-लिजलिजा स्पर्श

शिराओं को सुन्न करता
देखते ही देखते
सम्पूर्ण कोमल अहसासों को
हौले से निगलता

नहीं मायने कि
लिंग क्या?
हाँ, स्वभाव सम
आश्चर्यजनक
किन्तु शत प्रतिशत सत्य

और शेष
नोची-उधेड़ी
टीसती
लुहुलहान
खुरदुरी सतह

मकड़ियो का अस्तित्व
मुझ निरीह इंसान से
प्राचीन अवश्य रहा होगा
सोलह आने यकीन है मुझे