भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सो जा बारे वीर / बुन्देली

Kavita Kosh से
Gayatri Gupta (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 12:17, 19 मार्च 2014 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |रचनाकार=अज्ञात }} {{KKLokGeetBhaashaSoochi |भाषा=बुन्देल...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

सो जा बारे वीर
वीर की बलैयाँ ले जा यमुना के तीर

ताती-ताती पुरी बनाई
ओई में डारो घी
पी ले मोरे बारे भइया
मोर जुड़ाय जाए जी

सो जा बारे वीर
बीर की बलैयाँ ले जा जमुना के तीर

एक कटोरा दूध जमाओ
और बनाई खीर
ले ले मोरे बारे भइया
मोर जुड़ाय जाए जी

सो जा बारे बीर
बीर की बलैयाँ ले जा जमुना के तीर

बरा पे डारो पालना
पीपर पे डारी डोर
सो जा मोरे बारे भइया
मैं लाऊँ गगरिया बोर

सो जा बारे वीर
वीर की बलैयाँ ले जा यमुना के तीर