भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

"हँसी और मौत के सिवा / सिनान अन्तून / अनिल जनविजय" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार= सिनान अन्तून |अनुवादक=अनिल जनविज...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
(कोई अंतर नहीं)

16:02, 12 अगस्त 2017 के समय का अवतरण

मैं हँसता हूँ
कार पर
जो गुर्रा रही है मुझ पर
और कहता हूँ —
क्या तुम्हें लगता है कि
मैं तुम्हें लेकर चिन्तित हूँ
कि तुम चढ़ जाओगी मुझ पर।

मैं हँसता हूँ
सैनिक पर
चीख़ रहा है मुझ पर जो
और कहता हूँ —
क्या तुम्हें लगता है कि मैं चिन्तित हूँ
कि तुम मुझे गोली मार दोगे।

मैं हँसता हूँ
क्योंकि मेरे पास
और कुछ नहीं बचा है
हँसी और मौत के सिवा।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : अनिल जनविजय