भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"हँसी / हैरॉल्ड पिंटर" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
(नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=हैरॉल्ड पिंटर |संग्रह= }} <Poem> हँसी थम जाती है पर कभ...)
 
छो
पंक्ति 11: पंक्ति 11:
 
ये झरती है और किकयाती है और रिसती है दिमाग़ में
 
ये झरती है और किकयाती है और रिसती है दिमाग़ में
 
ये झरती है और किकयाती है लाशों के दिमाग़ों में
 
ये झरती है और किकयाती है लाशों के दिमाग़ों में
और इस तरह सारे झूठ मज़े से जाते हैं जम
+
और इस तरह सारे झूठ हँसते हुए जाते हैं जम
 
जिन्हें सोख लेती है सिर कटी लाशों की हँसी बेदम
 
जिन्हें सोख लेती है सिर कटी लाशों की हँसी बेदम
 
जिन्हें सोख लेते हैं हँसती लाशों के मुँह हर कदम
 
जिन्हें सोख लेते हैं हँसती लाशों के मुँह हर कदम

05:39, 6 फ़रवरी 2009 का अवतरण

हँसी थम जाती है पर कभी नहीं होती खत्म
हँसी झुठाने में लगा देती है अपना पूरा दम
हँसी हँसती है उस पर जो है अनकहा हर दम
ये झरती है और किकयाती है और रिसती है दिमाग़ में
ये झरती है और किकयाती है लाशों के दिमाग़ों में
और इस तरह सारे झूठ हँसते हुए जाते हैं जम
जिन्हें सोख लेती है सिर कटी लाशों की हँसी बेदम
जिन्हें सोख लेते हैं हँसती लाशों के मुँह हर कदम

मूल अंग्रेज़ी से अनुवाद : अनिल एकलव्य