भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"हंस माला चल / नरेन्द्र शर्मा" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
 
पंक्ति 3: पंक्ति 3:
 
|रचनाकार=नरेन्द्र शर्मा
 
|रचनाकार=नरेन्द्र शर्मा
 
}}
 
}}
शून्य है तेरे लिए मधुमास के नभ की डगर<br>
+
{{KKCatKavita}}
हिम तले जो खो गयी थीं, शीत के डर सो गयी थी<br>
+
{{KKCatNavgeet}}
फिर जगी होगी नये अनुराग को लेकर लहर<br>
+
<poem>
हंस माला चल, बुलाता है तुझे फिर मानसर<br><br>
+
हंस माला चल, बुलाता है तुझे फिर मानसर
  
बहुत दिन लोहित रहा नभ, बहुत दिन थी अवनि हतप्रभ<br>
+
शून्य है तेरे लिए मधुमास के नभ की डगर
शुभ्र-पंखों की छटा भी देख लें अब नारि-नर<br>
+
हिम तले जो खो गयी थीं, शीत के डर सो गयी थी  
हंस माला चल, बुलाता है तुझे फिर मानसर<br><br>
+
फिर जगी होगी नये अनुराग को लेकर लहर
 +
हंस माला चल, बुलाता है तुझे फिर मानसर
  
पक्ष अँधियारा जगत का, जब मनुज अघ में निरत था<br>
+
बहुत दिन लोहित रहा नभ, बहुत दिन थी अवनि हतप्रभ
हो चुका निःशेष, फैला फिर गगन में शुक्ल पर<br>
+
शुभ्र-पंखों की छटा भी देख लें अब नारि-नर
हंस माला चल, बुलाता है तुझे फिर मानसर<br><br>
+
हंस माला चल, बुलाता है तुझे फिर मानसर
  
विविधता के सत विमर्षों में उत्पछता रहा वर्षों<br>
+
पक्ष अँधियारा जगत का, जब मनुज अघ में निरत था
पर थका यह विश्व नव निष्कर्ष में जाये निखर<br>
+
हो चुका निःशेष, फैला फिर गगन में शुक्ल पर
हंस माला चल, बुलाता है तुझे फिर मानसर<br><br>
+
हंस माला चल, बुलाता है तुझे फिर मानसर
  
इन्द्र-धनु नभ-बीच खिल कर, शुभ्र हो सत-रंग मिलकर<br>
+
विविधता के सत विमर्षों में उत्पछता रहा वर्षों
गगन में छा जाय विद्युज्ज्योति के उद्दाम शर<br>
+
पर थका यह विश्व नव निष्कर्ष में जाये निखर
हंस माला चल, बुलाता है तुझे फिर मानसर<br><br>
+
हंस माला चल, बुलाता है तुझे फिर मानसर
  
शान्ति की सितपंख भाषा, बन जगत की नयी आशा<br>
+
इन्द्र-धनु नभ-बीच खिल कर, शुभ्र हो सत-रंग मिलकर
उड निराशा के गगन में, हंसमाला, तू निडर<br>
+
गगन में छा जाय विद्युज्ज्योति के उद्दाम शर
हंस माला चल, बुलाता है तुझे फिर मानसर<br><br>
+
हंस माला चल, बुलाता है तुझे फिर मानसर 
 +
 
 +
शान्ति की सितपंख भाषा, बन जगत की नयी आशा  
 +
उड निराशा के गगन में, हंसमाला, तू निडर  
 +
हंस माला चल, बुलाता है तुझे फिर मानसर
 +
</poem>

12:45, 8 दिसम्बर 2009 के समय का अवतरण

हंस माला चल, बुलाता है तुझे फिर मानसर

शून्य है तेरे लिए मधुमास के नभ की डगर
हिम तले जो खो गयी थीं, शीत के डर सो गयी थी
फिर जगी होगी नये अनुराग को लेकर लहर
हंस माला चल, बुलाता है तुझे फिर मानसर

बहुत दिन लोहित रहा नभ, बहुत दिन थी अवनि हतप्रभ
शुभ्र-पंखों की छटा भी देख लें अब नारि-नर
हंस माला चल, बुलाता है तुझे फिर मानसर

पक्ष अँधियारा जगत का, जब मनुज अघ में निरत था
हो चुका निःशेष, फैला फिर गगन में शुक्ल पर
हंस माला चल, बुलाता है तुझे फिर मानसर

विविधता के सत विमर्षों में उत्पछता रहा वर्षों
पर थका यह विश्व नव निष्कर्ष में जाये निखर
हंस माला चल, बुलाता है तुझे फिर मानसर

इन्द्र-धनु नभ-बीच खिल कर, शुभ्र हो सत-रंग मिलकर
गगन में छा जाय विद्युज्ज्योति के उद्दाम शर
हंस माला चल, बुलाता है तुझे फिर मानसर

शान्ति की सितपंख भाषा, बन जगत की नयी आशा
उड निराशा के गगन में, हंसमाला, तू निडर
हंस माला चल, बुलाता है तुझे फिर मानसर