भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हजारों आफतें हैं मेरा सर है / 'हफ़ीज़' बनारसी

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ५ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 23:48, 29 नवम्बर 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार='हफ़ीज़' बनारसी |अनुवादक= |संग्रह= }}...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हजारों आफतें हैं मेरा सर है
मैं जिंदा हूँ ये मेरा ही जिगर है

बहुत आसान राहे-पुर खतर है
तुम्हारी याद जब से हमसफ़र है
 
कहाँ थे मेरे नग्मे इतने शीरीं
तेरे दर्द-ए-मुहब्बत का असर है

जो पिघला दे दिले-कोहसार को भी
मुहब्बत वह नवा-ए-कारगर है

ज़माने भर के ग़म में रोने वाले
तुझे कुछ अपने घर की भी खबर है

न पूछो आज सजदों की लताफ़त
मेरा सर है और उनका संगे-दर है

मिले फुर्सत तो सुन लेना किसी दिन
मेरा किस्सा निहायत मुख़्तसर है