भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

हजार सपनाहरूको माया लागेर आउँछ / ईश्वरवल्लभ भट्टराई