भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"हमको ऐसे मिली ज़िंदगी ! / शार्दुला नोगजा" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
(नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=शार्दुला नोगजा }} <poem> इक मुड़ी जीन्स में, फंस गई स...)
 
 
(3 सदस्यों द्वारा किये गये बीच के 3 अवतरण नहीं दर्शाए गए)
पंक्ति 5: पंक्ति 5:
 
<poem>
 
<poem>
  
इक मुड़ी जीन्स में, फंस गई सीप सी
+
इक मुड़ी जीन्स में, फँस गई सीप-सी
आँधियों से भरे, एक कृत्रिम द्वीप सी
+
आँधियों से भरे, एक कृत्रिम द्वीप-सी
नाखुनों में घुसी, कुछ हठी रेत सी
+
 
पेड़ बौने लिये, बोन्साई खेत सी
+
नाखूनों में घुसी, कुछ हठी रेत-सी
 +
पेड़ बौने लिए, बोन्साई खेत-सी
 
   
 
   
टूटी इक गिटार सी, क्लिष्टव्यवहार सी
+
टूटी इक गिटार-सी, क्लिष्ट व्यवहार-सी
नाम भी ना रहे याद, भूले प्यार सी
+
नाम भी ना रहे याद, भूले प्यार-सी
 
   
 
   
फोटो बिन फ्रेम की, बस कुशल-क्षेम सी
+
फोटो बिन फ्रेम की, बस कुशल-क्षेम-सी
बारिशों से स्थगित एक क्रिकेट गेम सी
+
बारिशों से स्थगित एक क्रिकेट गेम-सी
 
   
 
   
 
हाथ से ढुल गई मय ना प्याले गिरी
 
हाथ से ढुल गई मय ना प्याले गिरी
 
शाम जो रात लौटी नहीं सिरफिरी
 
शाम जो रात लौटी नहीं सिरफिरी
 
   
 
   
देने में जो सरल, सस्ते इक ज्ञान सी
+
देने में जो सरल, सस्ते इक ज्ञान-सी
भाव से हो रहित, हाय! उस गान सी
+
भाव से हो रहित, हाय! उस गान-सी
 
   
 
   
 
खोल खिड़की किरण जो ना घर आ सकी
 
खोल खिड़की किरण जो ना घर आ सकी
 
धुन ज़हन में रही ना जुबाँ पा सकी
 
धुन ज़हन में रही ना जुबाँ पा सकी
 
   
 
   
आदतों की बनी इक गहन रेख सी
+
आदतों की बनी इक गहन रेख-सी
बस जो होती बहु में ही, मीन-मेख सी  
+
बस जो होती बहू में ही, मीन-मेख-सी  
 
   
 
   
बी.एम.आई इंडैक्स सी, बिन कमाई टैक्स सी
+
बी.एम.आई इंडैक्स सी, बिन कमाई टैक्स-सी
जो कि पढ़ ना सके, उड़ गये फैक्स सी
+
जो कि पढ़ ना सके, उड़ गये फैक्स-सी
 
   
 
   
 
हमको ऐसे मिली कि हँसी आ गई
 
हमको ऐसे मिली कि हँसी आ गई
 
फिर गले से लगाया तो शर्मा गई
 
फिर गले से लगाया तो शर्मा गई
  
 +
ज़िंदगी प्यार के झूठे ई-मेल सी
 +
पुल पे आई विलम्बित थकी रेल सी ! 
 
</poem>
 
</poem>

19:29, 11 अप्रैल 2009 के समय का अवतरण


इक मुड़ी जीन्स में, फँस गई सीप-सी
आँधियों से भरे, एक कृत्रिम द्वीप-सी

नाखूनों में घुसी, कुछ हठी रेत-सी
पेड़ बौने लिए, बोन्साई खेत-सी
 
टूटी इक गिटार-सी, क्लिष्ट व्यवहार-सी
नाम भी ना रहे याद, भूले प्यार-सी
 
फोटो बिन फ्रेम की, बस कुशल-क्षेम-सी
बारिशों से स्थगित एक क्रिकेट गेम-सी
 
हाथ से ढुल गई मय ना प्याले गिरी
शाम जो रात लौटी नहीं सिरफिरी
 
देने में जो सरल, सस्ते इक ज्ञान-सी
भाव से हो रहित, हाय! उस गान-सी
 
खोल खिड़की किरण जो ना घर आ सकी
धुन ज़हन में रही ना जुबाँ पा सकी
 
आदतों की बनी इक गहन रेख-सी
बस जो होती बहू में ही, मीन-मेख-सी
 
बी.एम.आई इंडैक्स सी, बिन कमाई टैक्स-सी
जो कि पढ़ ना सके, उड़ गये फैक्स-सी
 
हमको ऐसे मिली कि हँसी आ गई
फिर गले से लगाया तो शर्मा गई

ज़िंदगी प्यार के झूठे ई-मेल सी
पुल पे आई विलम्बित थकी रेल सी !