भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हमदर्दी / गौरव गिरिजा शुक्ला

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 15:13, 11 अक्टूबर 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=गौरव गिरिजा शुक्ला |अनुवादक= |संग...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कैसी हमदर्दी है, कैसी ये मसीहाई है,
ज़ख्म नासूर हो रहे, कैसी ये दवाई है।

उसके सजदे में मसरूफ़ हूं शाम-ओ-सहर
फिर भी वो रूठा है, कैसी ये ख़ुदाई है।

 दिल, ये सांसें, सुकून-ओ-ख़्वाब सब तेरे हुए,
मेरा न कुछ बचा, कैसी ये जुदाई है।

जीतने की चाहत में इश्क की बाज़ी,
ख़ुद से ही हार गया, कैसी ये लड़ाई है।

वो छोड़ गया था मुझे मेरे ही हाल पर,
आज वजहें गिना रहा है, कैसी ये सफाई है।

तेरी यादें, तेरी बातें, तेरी कसमें, तेरे वादे,
अकेला छोड़ते नहीं, कहाँ कोई तन्हाई है।