भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हमारी सारी बातों पर / जय गोस्वामी

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 14:50, 29 अक्टूबर 2011 का अवतरण ('{{KKRachna |रचनाकार=जय गोस्वामी |संग्रह= }} {{KKCatKavita‎}} <Poem> जो एतरा...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जो एतराज कर रहा है, उसे बुलाओ
जिसने सहमति नहीं दी है, उसे बुलाओ
बुलाओ उसे, जो अभी तक चुप है

आए यहाँ,
आकर सबके सामने 'हाँ' करे

हाँ करे, हाँ करे, हाँ कहे हमारी बातों पर
हमारी सारी बातों पर
हमारी सारी बातों पर

हे सुशील नागरिक-जन, जान लें
इस लोकतांत्रिक देश में आज
हमारी सारी बातों पर
हाँ करना ही आपका एकमात्र फ़र्ज़ है।

बांग्ला से अनुवाद : संजय भारती