भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हम किस हद तक भारतीय हो सकते हैं / गब्रियेला गुतीयरेज वायमुह्स / दुष्यन्त

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 03:23, 22 दिसम्बर 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=गब्रियेला गुतीयरेज वायमुह्स |अन...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रात में मरना हमारे बुजुर्गो की परम्परा नहीं है
भविष्य तक थामिए अपने हाथ में शराब
मुझे प्रेम करने दो तुम्हें एक व्यस्क की तरह

हमें प्रेम करना है पिता से
जिसे पा ना सकी एक बच्चे के रूप में
हम छुपाछुपी खेलते रहे
पाश्चात्य संगीत के छठे सुर-सा तुम्हारा एहसास
क्या याद है तुम्हें!

मेरे पिता !
कभी नहीं चाहा कोई इनाम तुम्हारी उदासी के लिए
पर तुम पीते रहे तमाम शराब जो थी एज्टेक के ऊँचे पादरी की
डूरंगों के पहाडों से तुम कहोगे –
हम किस हद भारतीय हो सकते हैं
पर पिताजी आप लगते रहे हो भारतीय भारत के!
आप कैसे भारतीय थे ?

अब मेरे बच्चे कहते हैं, जब हम गुज़रते हैें भव्य ख़ानदानी फ़ेहरिस्त से तो
हमारे पुरखों ने बनाया जिन्हें, है ना?
क्योंकि सिएटल सिटी स्कूलों में जगह नहीं है मेक्सिको मूल के लोगों के लिए, मैं ने कहा
हाँ, उन्होंने किया, यह और, और भी बहुत कुछ।
जैसे घुलमिल जाते हैं सो भारतीय दूसरे भारतीयों में।

आपने कैसे कोशिश की मेरा चुम्बन लेने की मेरे पिता!
पर ले नही पाए
चुम्बन के खयाल ने धोखा खाया आपके बचपन की परम्परा से
पिता आपको पता नहीं था

पिता आप छोड गए हमें!

आप पलायन कर गए
पेण्ट की जेब में स्थित हमारी औक़ात तक जाती जुराब की तरह
विजेता की तरह
कभी ना दिखने के लिए अपने परिचितों को

औक़ात की तमाम जुराबें क्या ले जाएँगी
वहाँ तक जहाँ तुम जाता चाहते हो!
तुम किस हद तक भारतीय थे मेरे पिता!
आपने दिया अपना प्रेम मुझे
और नहीं लिया वापिस भी।

अँग्रेज़ी से अनुवाद — दुष्यन्त