भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हरता तो फरता मारूजी हो पूछे / मालवी

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 15:44, 29 अप्रैल 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |रचनाकार=अज्ञात }} {{KKLokGeetBhaashaSoochi |भाषा=मालवी }} {{KK...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

हरता तो फरता मारूजी हो पूछे
मटकी ना मोती क्याँ मेलिया
एकज मोती राजा दई ने दीदो
हरता तो फरता मारूजी हो पूछे
मटकी ना मोती क्यां मेल्या
एकज मोती राजा सासू ने दीदो
कुंवर पटोला झेलिया
हरता...
एकज मोती राजा जेठाणी ने दीदो
दस दन खूणे खाट ढलाविया
हरता तो...
एकज मोती राजा जेठाणी ने दीदो
दस दन दिवलो संजोवियो
हरता तो...
एकज मोती राजा नणदल ने दीदो
कंवले सांतीपूड़ा मंडाविया
हरता तो फरता सुगणी रा सायबा पूछे
एकज मोती राजा ढोली ने दीदो
दस दन ढोल गरासिया
हरता तो...
एकज मोती राजा पड़ोसन ने दीदो
दस दन मंगल गवाड़िया