भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

हर समय तुझको ख़ुद में ही पाऊँगा मैं / राहुल शिवाय