भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हाइकु - भाग 1 / रेशमा हिंगोरानी

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 21:37, 6 जून 2020 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=रेशमा हिंगोरानी |अनुवादक= |संग्रह...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यूँ पहचान
खुद अंदर झाँक
रब को जान!



बदली आई
अखियों में उतरी
जा नहीं पाई



तेरी औ’ मेरी
कब से बन गया
तेरी या मेरी?



आया वो जब
था गुहर - तलब
ले गया सब !



रात जो आई
तुझको न पाकर
नींद न लाई
 



तेरी दुनिया
बन न पाई, आह!
मेरी दुनिया



तुझ को पाया
तो फिर अकेला क्यूँ
खुद को पाया



कैसा ये रब
चलाए अपनी ही
जाने तो सब !



दूरी ने लूटा
मिलना ज़रूरी था
तिलिस्म टूटा
(तिलिस्म – जादू)



दिल ये फिर
पुराने मश्गलों से
गया है घिर