भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"हाइकु / ज्ञानेन्द्रपति" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
पंक्ति 3: पंक्ति 3:
 
|रचनाकार=ज्ञानेन्द्रपति
 
|रचनाकार=ज्ञानेन्द्रपति
 
}}
 
}}
 
+
{{KKCatHaiku}}
 
<poem>
 
<poem>
 
देवता हुए
 
देवता हुए

10:11, 4 फ़रवरी 2018 का अवतरण

देवता हुए
सामंत सहायक
राजतंत्र में

मिटता नहीं
सिरजा जाता जिसे
एक बार

गाते न दिखा
सुना गया हमेशा
काला झींगुर

नाम दुलारी
दुखों की दुलारी है
जमादारिन

पनही नहीं
पाँव में, गले में
पगहा है भारी

मेघ बोझिल
मन भर मौसम
छूटा अकेला