भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

"हिंदू राष्ट्र के शहीदों के प्रति / अंशु मालवीय" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
(नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अंशु मालवीय }}<poem> जहाँ जली वह ट्रेन उसके अगले स्ट...)
 
 
(एक अन्य सदस्य द्वारा किया गया बीच का एक अवतरण नहीं दर्शाया गया)
पंक्ति 2: पंक्ति 2:
 
{{KKRachna
 
{{KKRachna
 
|रचनाकार=अंशु मालवीय  
 
|रचनाकार=अंशु मालवीय  
}}<poem>
+
|संग्रह=दक्खिन टोला / अंशु मालवीय
 +
}}
 +
{{KKCatKavita}}
 +
<poem>
 
जहाँ जली वह ट्रेन
 
जहाँ जली वह ट्रेन
 
उसके अगले स्टेशन पर हिंदू राष्ट्र था।
 
उसके अगले स्टेशन पर हिंदू राष्ट्र था।

11:13, 31 अक्टूबर 2009 के समय का अवतरण

जहाँ जली वह ट्रेन
उसके अगले स्टेशन पर हिंदू राष्ट्र था।

जैसे विश्व विजय थी
कारगिल के उस पार
हालांकि अभी मंज़ूर नहीं थी अमेरिका को

वैसे ही जैसे
अमेरिका और अम्बानी दोनों को मंज़ूर नहीं था
फिलहाल हिंदू राष्ट्र

जले दुधमुंहे बच्चे
अभी जिन्हें हिंदू बनाया जाना था
जली वे औरतें
जो धरम के कारखानें में
दिहाड़ी मजदूर थी
जले वे बेचारे पुरूष
जिन्हें ठोक-पीट कर मर्द बनाया जा रहा था।

जलते हुए इन मासूमों की चीख
राष्ट्रगान लगी
अगले स्टेशन पर बैठे लोगों को।

जिन्होंने ट्रेन में आग लगाई
उनका राष्ट्र पिछले स्टेशन पर छूट चुका था।

(गोधरा में मारे गए लोगों के लिए)