भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हिम जो झरे / कुँवर दिनेश

Kavita Kosh से
वीरबाला (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 02:26, 16 जनवरी 2020 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार= कुँवर दिनेश }} Category:हाइकु <poem> 1 हिम...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

1
हिम धवल -
धरा पर उतर
हो रहा जल!
2
आकाश झुके
हिम के स्वागत में
हवा भी रुके!
3
पवन रुके
हिम जब झरता -
मेघ भी रुके!
4
भू की तृषा से
हिम बरसता है
देव-कृपा से!
5
हिम जो झरे
कंक्रीट का शिमला
घावों को भरे!
6
बर्फ़ का हौआ
ख़ामोश शहर में
उड़ता कौआ!
7
हवा बर्फ़ानी -
सामना करने की
पेड़ों ने ठानी।
8
पेड़ चीड़ के
बर्फ़ में भी रहते -
हरे के हरे!
9
झोंके हवा के -
धौलाधार से आते -
बर्फ़ मिलाके!