भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हूणियै रा होरठा (4) / हरीश भादानी

Kavita Kosh से
आशिष पुरोहित (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 07:46, 29 नवम्बर 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=हरीश भादानी |संग्रह=बाथां में भूग...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बटिया आलू प्याज रा
उड़ना तिरणा जाज
देखै चकरीबम्म
हवा खांवता हूणिया

खुरसी री चरभर रमै
खेवट पंगत जोड़
लोकराज री नाव
हवा भरोसे हूणिया

गूंगी खुरसी दावलै
सुरता बोली दीठ
बिना डोळ रो देख
मिनखाचारौ हूणिया

कळ पुरजा हाका करै
गोखै बयां हिसाब
फड़कै जद-जद होंठ
जडै़ किंवाड़ हूणिया

सोटयां खुभतां ही जगै
भाजै पहिया होय
फिरै थाकैलो लाद
थरकण नापै हूणिया

हाकम री हालै कलम
दिन रातींदो होय
लुळ-लुळ करै सलाम
रात तावड़ौ हूणिया

हाकम री आंख्या अजब
बांचै घोर अंधार
ताबड़ियै-सौ सांच
लगै फारसी हूणिया

छांट एक नांखै नहीं
बैठै मांडयां बूक
इंदर रा ए डाळ
देखै रेतड़ हूणिया