भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हे मेरी तुम !.. / केदारनाथ अग्रवाल

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 11:07, 15 अप्रैल 2011 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हे मेरी तुम !
बिना तुम्हारे--

जलता तो है
दीपक मेरा
लेकिन ऐसे

जैसे आँसू
की यमुना पर
छोटा-सा
खद्योत
टिमकता,

क्षण में जलता
क्षण में बुझता ।