भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हे श्‍याम सखा (होली मतवाला) / आर्त

Kavita Kosh से
Pratishtha (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 19:57, 18 अप्रैल 2011 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हे श्‍याम सखा तोरे पइया परूँ मोहे जसुदाकुँवर से मिला दे ।।

ब्रह्मज्ञान की पोथी पुरानी, क्‍या समझें हम प्रेम दिवानी
खूब फसी छलिया से नेहिया लगाके
डारि गले बहिंया कि फसिया मरूँ, रसिया का संदेशा दिला दे ।।

हरी हरी टेरे जमुना की लहरिया, सूनी भई बरसाना डगरिया
’आर्त’ श्‍याम घन बनि-बनि बरसो
बिरह अगिनि दिन रतिया जरूँ, मोरी सूखी कियरिया खिलादे ।।

इस गीत को गाने की विधा ’यू ट्यूब’ पर चलचित्रों के माध्‍यम से देखी व सीखी जा सकती है । उत्‍सुक बन्‍धु ’यू ट्यूब’ पर जाकर इसके नाम से खोज करें ।