भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"होरी खेलन आयो स्याम / ब्रजभाषा" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
पंक्ति 2: पंक्ति 2:
 
होरी खेलन आयो श्याम, आज याए रंग में बोरो री
 
होरी खेलन आयो श्याम, आज याए रंग में बोरो री
  
आज याए रंग में बोरो री, आज याए रंग में बोरो री ...........
+
आज याए रंग में बोरो री, आज याए रंग में बोरो री
 +
 
 +
याकी हरे बाँस की बाँसुरिया, याए तोरि मरोरो री ...........
  
 
होरी खेलन आयो श्याम...
 
होरी खेलन आयो श्याम...

15:09, 25 अप्रैल 2011 का अवतरण

होरी खेलन आयो श्याम, आज याए रंग में बोरो री

आज याए रंग में बोरो री, आज याए रंग में बोरो री

याकी हरे बाँस की बाँसुरिया, याए तोरि मरोरो री ...........

होरी खेलन आयो श्याम...