भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

होली का गीत / सुदर्शन वशिष्ठ

Kavita Kosh से
Pratishtha (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 19:08, 15 मार्च 2011 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रंग दे कोई
रंग गुलाबी
भेज दे कोई
ख़त जवाबी
लगा दे कोई
बारिश रिमझिम
सेका दे कोई
धूप गुनगुनी
सुना दे कोई
माँ की लोरी
कह दे कोई
बात इक कोरी
सुना दे कोई
इक किलकारी
खिला दे कोई
सारी क्यारी
खिला दे कोई
आम आँमला
दिखा दे कोई
श्याम साँवला
ओढ़ा दे कोई
अम्बर नीला
बिछा दे कोई
मंजा ढीला
बिठा दे कोई
पीपल छईयाँ
डाल दे कोई
गले में बहिंयाँ
मिला दे कोई
मीत पुराना
सुना दे कोई
गीत पुराना
बता दे कोई
पता ठिकाला
कह दे कोई
बात सयाना।