भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

1940 (6) / बर्तोल ब्रेख्त / मोहन थपलियाल

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 03:17, 14 फ़रवरी 2018 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=बर्तोल ब्रेख्त |अनुवादक=मोहन थपल...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरा छोटा लड़का मुझसे पूछता है —
क्या मैं गणित सीखूँ?

क्या फ़ायदा है,
मैं कहने को होता हूँ
रोटी के दो कौर
एक से ज़्यादा होते हैं
यह तुम एक दिन जान ही लोगे।

मेरा छोटा लड़का मुझसे पूछता है —
क्या मैं फ्राँसीसी सीख लूँ?

क्या फ़ायदा है,
मैं कहने को होता हूँ
यह देश नेस्तनाबूद होने वाला है।

और यदि तुम
अपने पेट को
हाथों से मसलते हुए
कराह भरो, बिना तकलीफ के
झट समझ लोगे।

मेरा छोटा लड़का मुझसे पूछता है —
क्या मैं इतिहास पढूँ?

क्या फ़ायदा है,
मैं कहने को होता हूँ
अपने सिर को ज़मीन पर
धँसाए रखना सीखो,
तब शायद
तुम ज़िन्दा रह सको।

(1936-38)

मूल जर्मन भाषा से अनुवाद : मोहन थपलियाल