भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पत्थर / नीलाभ

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम अपने साथ लिए फिरते हो

हज़ारों वर्षों का इतिहास

तुम्हारी झुर्रियों में

दफ़न हैं

सैकड़ों कथाएँ


लेकिन इन दिनों मेरी मेज़ पर

अपनी लम्बी यात्रा के बीच

कुछ समय के लिए

विश्राम करते हुए

तुम कितने शान्त लगते हो


कभी-कभी मुझे महसूस होता है

तुम्हें हल्के से टकोरूँ तो तुमसे

संगीत का एक सोता फूट निकलेगा


(लन्दन, 1982)