भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फ़र्क़ / नीलाभ

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क्या है जो कुतरता रहता है--

चूहे की तरह

धीरे-धीरे अदृश्य

-- दिनों के रेशे ?


पीले पत्ते गिरते रहते हैं

नि:शब्द एक-दूसरे पर

तह-दर-तह, वर्ष-दर-वर्ष

कि फ़र्क़ करना मुश्किल हो जाता है

एक को दूसरे से


यह समय है--तुम कहते हो

यह अकर्मण्यता है--मैं कहता हूँ


(रचनाकाल : 1975)