भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वापसी / नीलाभ

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक-दूसरे की तरफ़ पीठ किए लोग

अगर यात्रा की शुरूआत में

एक-दूसरे से सटकर भी खड़े हों

तो विपरीत दिशाओं में बढ़ते हैं

और यात्रा के अंत में एक-दूसरे से

बहुत दूर होते हैं--तुमने कहा था


फिर यह क्यों होता है

कि हर यात्रा के ख़त्म होने पर

मैं तुम्हें अपने सामने खड़ी पाता हूँ


(लन्दन,1980)