भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

केदार नाथ सिंह / परिचय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

केदारनाथ सिंह जी का जन्म 1934 में उत्तर प्रदेश के बलिया जिले के चकिया गाँव में हुआ था। आपने बनारस विश्वविद्यालय से 1956 में हिन्दी में एम . ए और 1964 से पी.एच डी की। आपने कई कालेजों में पढ़ाया और अन्त में जे. एन. यू में हिन्दी विभाग के अध्यक्ष पद से रिटायर्ड हुए। आपने कविता व गद्य की अनेक पुस्तकें रची हैं। और अनेक सम्माननीय सम्मानों से सम्मानित हुए। आप समकालीन कविता के प्रमुख हस्ताक्षर हैं। आपकी कविता में गाँव व शहर का द्वन्द्व साफ नजर आता है। बाघ आपकी प्रमुख लम्बी कविता है, जो मील का पत्थर मानी जा सकती है।दिल्ली की हिंदी अकादमी का दो लाख का सर्वोच्च शलाका सम्मान ठुकराया (2010)।