भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

कोई उदास था / गिरीष बिल्लोरे 'मुकुल'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


कोई उदास था तो कोई बोल रहा था
हरेक मैकदे में खुद को तोल रहा था !
साक़ी पिलाई तूने ये कौन सी शराब
सागर ही होश में था जो बोल रहा था.?