भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
Change to Roman

कविता कोश मुखपृष्ठ

Kavita Kosh से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज
भारतीय काव्य के इस सबसे विशाल ऑनलाइन संकलन में आपका स्वागत है। यह एक खुली परियोजना है जिसके विकास में कोई भी भाग ले सकता है -आप भी! आपसे निवेदन है कि आप भी इस संकलन के परिवर्धन में सहायता करें। देखिये कविता कोश में आप किस तरह योगदान कर सकते हैं
 कोश में कुल पन्नें
76,754
रचनाकारों की सूची


रेखांकित रचना
मौसियाँ

रचनाकार: अनामिका

Kk-poem-border-1.png

वे बारिश में धूप की तरह आती हैं -– थोड़े समय के लिए और अचानक हाथ के बुने स्वेटर, इन्द्रधनुष, तिल के लड्डू और सधोर की साड़ी लेकर वे आती हैं झूला झुलाने पहली मितली की ख़बर पाकर और गर्भ सहलाकर लेती हैं अन्तरिम रपट गृहचक्र, बिस्तर और खुदरा उदासियों की ।

झाड़ती हैं जाले, संभालती हैं बक्से मेहनत से सुलझाती हैं भीतर तक उलझे बाल कर देती हैं चोटी-पाटी और डाँटती भी जाती हैं कि री पगली तू किस धुन में रहती है कि बालों की गाँठें भी तुझसे ठीक से निकलती नहीं ।

बालों के बहाने वे गाँठें सुलझाती हैं जीवन की करती हैं परिहास, सुनाती हैं क़िस्से और फिर हँसती-हँसाती दबी-सधी आवाज़ में बताती जाती हैं -– चटनी-अचार-मूंग-बड़ियाँ और बेस्वाद सम्बन्ध चटपटा बनाने के गुप्त मसाले और नुस्खे -– सारी उन तकलीफ़ों के जिन पर ध्यान भी नहीं जाता औरों का ।

आँखों के नीचे धीरे-धीरे जिसके पसर जाते हैं साए और गर्भ से रिसते हैं महीनों चुपचाप -– ख़ून के आँसू-से चालीस के आसपास के अकेलेपन के उन काले-कत्थई चकत्तों का मौसियों के वैद्यक में एक ही इलाज है -– हँसी और कालीपूजा और पूरे मोहल्ले की अम्मागिरी ।

बीसवीं शती की कूड़ागाड़ी लेती गई खेत से कोड़कर अपने जीवन की कुछ ज़रूरी चीज़ें -– जैसे मौसीपन, बुआपन, चाचीपन्थी, अम्मागिरी मग्न सारे भुवन की ।

हज़ारों प्रशंसक

कविता कोश समाचार

Kavita Kosh

वैयक्तिक औज़ार
» रचनाकारों की सूची
» हज़ारों प्रशंसक...

गद्य कोश

कविता कोश में खोज करें

दशमलव / ललित कुमार
(परियोजना सम्बंधी सूचनाएँ)