भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
Change to Roman

कविता कोश मुखपृष्ठ

Kavita Kosh से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज
भारतीय काव्य के इस सबसे विशाल ऑनलाइन संकलन में आपका स्वागत है। यह एक खुली परियोजना है जिसके विकास में कोई भी भाग ले सकता है -आप भी! आपसे निवेदन है कि आप भी इस संकलन के परिवर्धन में सहायता करें। देखिये कविता कोश में आप किस तरह योगदान कर सकते हैं
 कोश में कुल पन्नें
77,431
रचनाकारों की सूची


रेखांकित रचना
प्रिय गान नहीं गा सका तो

रचनाकार: त्रिलोचन

Kk-poem-border-1.png

यदि मैं तुम्हारे प्रिय गान नहीं गा सका तो मुझे तुम एक दिन छोड़ चले जाओगे

एक बात जानता हूँ मैं कि तुम आदमी हो जैसे हूँ मैं जो कुछ हूँ तुम वैसे वही हो अन्तर है तो भी बड़ी एकता है मन यह वह दोनों देखता है भूख प्यास से जो कभी कही कष्ट पाओगे तो अपने से आदमी को ढूंढ़ सुना आओगे

प्यार का प्रवाह जब किसी दिन आता है आदमी समूह में अकेला अकुलाता है किसी को रहस्य सौंप देता है उसका रहस्य आप लेता है ऎसे क्षण प्यार की ही चर्चा करोगे और अर्चा करोगे और सुनोगे सुनाओगे

विघ्न से विरोध से कदापि नहीं भागोगे विजय के लिए सुख-सेज तुम त्यागोगे क्योंकि नाड़ियों में वही रक्त है जो सदैव जीवनानुरक्त है तुमको जिजीविषा उठाएगी, चलाएगी, बढ़ाएगी उसी का गुन गाओगे, गवाओगे


रचनाकाल : जनवरी, 1957, ’कवि’ में प्रकाशित

हज़ारों प्रशंसक

कविता कोश समाचार

Kavita Kosh

वैयक्तिक औज़ार
» रचनाकारों की सूची
» हज़ारों प्रशंसक...

गद्य कोश

कविता कोश में खोज करें

दशमलव / ललित कुमार
(परियोजना सम्बंधी सूचनाएँ)